What’s in a name?

छोटे-छोटे काम वाले लोग ऐसा कर सकते हैं। कोई बड़ी कंपनी ऐसा रिस्क नहीं ले सकती है। जिसका करोड़ो का बिजनेस है वह ऐसा काम नहीं करेगा। कोई बड़ी कंपनी कहे कि हम सबसे खराब नमक दे रहे हैं, खाकर तो देखें तो कोई खरीदेगा ? यह छोटे शहरों और छोटी जगहों पर चल सकता है। चला तो ठीक, नहीं चला तो दूसरा नाम रख लेंगे।

Jameel Gulrays
My thoughts on the negative product naming culture prevalent these days was published in Navbharat Times’ edition dated April 3, 2022.

Author: ADnaama

Urdu connoisseur. Adman. Founder of Katha Kathan.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: